BNMU News

BNMU : अनशन खतम , आश्वासन हजम

अन्ना यादव । कोसी टाइम्स.

मधेपुरा स्थित बीएन मंडल विश्वविद्यालय प्रशासन ने जैसे कसम ही खा रखी है कि जब तक हम हजारों छात्रों के भविष्य को बर्बाद नहीं कर देंगे तब तक हम मानेंगे नहीं। मंडल विवि के नाॅन रेजिडेंट कुलपति के बाद अब अन्य पदाधिकारियों ने भी अपनी कथनी और करनी में जमीन आसमान का अंतर करना शुरु कर दिया है। बार बार छात्र संगठनों के आंदोलन के बाद भी मंडल विवि प्रशासन पर कोई असर पड़ा हो ,फिलहाल ऐसा दिखता तो नहीं है। अभी हाल ही में एक अगस्त से मंडल विवि की कुव्यवस्था के खिलाफ संयुक्त छात्र संगठन के बैनर तले आमरण अनशन पर एनएसयूआई के मनीष कुमार व एआईएसएफ के हर्ष वर्धन सिंह राठौड़ के बारह दिनों तक बैठने के बाद भी मंडल विवि प्रशासन बेफिक्री में दिख रहा है।

विदित है कि एनएसयूआई के मनीष कुमार व एआईएसएफ के हर्ष वर्धन सिंह राठौड़ ने मंडल विवि की कुव्यवस्था के खिलाफ एक अगस्त से बारह दिनों तक अनशन किया था ,जिसके बाद मंडल विवि के नाॅन रेजिडेंट कुलपति विनोद कुमार ने अपने अल्पावधि के विश्वविद्यालय दौरे के दौरान अनशन स्थल पर जाकर छात्रों की समस्याओं के समाधान व अनशनकारी छात्रों की दस सूत्री मांगों पर विचार करने के लिए जल्द से जल्द बैठक बुलाने की बात कही थी, लेकिन मंडल विवि के नाॅन रेजिडेंट कुलपति विनोद कुमार 15 अगस्त को झंडा फहराने के बाद फिर से झांसा देकर प्रोवीसी जेपीएन झा को प्रभार सौंप गए।

IMG-20160812-WA0017

अनशन के आखिरी दिन 12 अगस्त को बीएन मंडल विवि के नाॅन रेजिडेंट कुलपति की उपस्थिति में छात्रों के आक्रोश को देखते हुए परीक्षा नियंत्रक नवीन कुमार सिंह ने कहा था कि सात दिन बाद से जिन छात्रों को किसी अन्य जगह एडमिशन लेना हो या किसी तरह की काउंसिलिंग में शामिल होना हो ,वह लेटर आॅफ कांफिडेंस ले सकते हैं। लेकिन इस आश्वासन के बारह दिन बीतने के बाद अब अगले सात दिन बाद भी छात्रों को कांफिडेंशियल लेटर मिलने की उम्मीद नहीं दिख रही है। शनिवार से लेकर सोमवार तक कई छात्र कांफिडेंशियल लेटर को लेकर परेशान दिखे। किसी को इंजीनियरिंग काॅलेज में दाखिला लेना है तो किसी का मेडिकल काॅलेज में दाखिले के लिए काउंसलिंग का समय निकट आ गया है। किसी को कृषि क्षेत्र में जाना है तो किसी को नौकरी के लिए फाॅर्म भरने की चिंता है। लेकिन मंडल विवि प्रशासन को सैकड़ों छात्रों की इन समस्याओं से कोई फर्क नहीं पड़ रहा है।

वही छात्रों की इन परेशानियों को लेकर बारह दिनों तक विवि प्रशासन के खिलाफ अनशन पर रहे मनीष कुमार का कहना है कि 25 अगस्त को हम लोगों का अनशन के आश्वासन पर अमल को लेकर समीक्षा बैठक है। इसमें दस सूत्री मांग पत्र के हर पहलू पर विचार किया जाएगा ,विवि प्रशासन नहीं सुधरा तो हम फिर से आरपार की लड़ाई लड़ने के लिए मजबूर होंगे। लेकिन अब यह आरपार की लड़ाई कब लड़ी जायेगी ,इसका कोई ठिकाना नहीं है और सबसे बड़ी बात तो यह है कि क्या इन लड़ाईयों के बाद भी बीएन मंडल विवि प्रशासन सुधरेगा ?

Source: Kositimes.com

TO share this news hit like button/ share button below. Also drop your comment if you want.

Tags

Related Articles

Check Also
Close
Back to top button
Close